-->

25+ best garibi shayari in hindi - Amiri garibi shayari - Gareeb quotes

Garibi shayari in hindi-हेलो दोस्तों आशा करते आप सब ठीक होंगे आपके लिए हाजिर है कुछ दिल को छू लेने वाली  Amiri garibi shayari  (hindi and English font, और Gareeb quotes  आपको पसंद आये तो शेयर जरूर करे और हमे कमेंट दवा बताते की आपको ये श्यारी किसी लगी।  शायरी लव में। कॉम पर आपका स्वागत है 

Garibi shayari in hindi-ज़मीन सुखी है पर 



ज़मीन सुखी है पर उसकी मुस्कान अभी बाकी है..
देखकर बादलों को उसकी दहाड़ अभी बाकी है
बरस जा रे मेघा, उस गरीब की लाज अभी बाकी है
अपनी मेहनत का खाता है वो, उसका लगान अभी बाकी है। 






garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com
image source-pikrepo.com



zameen sukhee hai par usakee muskaan abhee baakee hai.. 
dekhakar baadalon ko usakee dahaad abhee baakee hai 
baras ja re megha, us gareeb kee laaj abhee baakee hai 
apanee mehanat ka khaata hai vo usaka lagaan abhee baakee hai. 



Garibi shayari in hindi-फैंक दिया उसने


फैंक दिया उसने यह कहकर ये सुबह का खाना है।
कभी देख उसके पसीने को, ना फुर्सत का बहाना है
पेट भरना वाला वों अन्नदाता भूखा ही सो जाता है
तेरे शहर में बारिश हुई है पर उसका खेत अभी कर्ज़ में डूबा है।




phaink diya usane yah kahakar ye subah ka khaana hai.
kabhee dekh usake paseene ko, na phursat ka bahaana hai
pet bharana vaala von annadaata bhookha hee so jaata hai
tere shahar mein baarish huee hai par usaka khet abhee karz mein dooba hai.




Garibi shayari in hindi-उसे पता नहीं ये धूप


उसे पता नहीं ये धूप है या छाव,
चहरे से लगता है विधाता ने दिया है फिर सूखे का घाव।
उसके पसीने की बूँदों को वो सूरज भी नहीं सूखा पाता,
उतनी बरसात भी अगर होती तो पूरे होते अन्नदाता के ख्वाब।




use pata nahin ye dhoop hai ya chhaav,
chahare se lagata hai vidhaata ne diya hai phir sookhe ka ghaav.
usake paseene kee boondon ko vo sooraj bhee nahin sookha paata, 
utanee barasaat bhee agar hotee to poore hote annadaata ke khvaab.

Garibi shayari in hindi-गांव में हरेक की जुबां 


गांव में हरेक की जुबां पर पुश्तों का लेखा जोखा रहता था।
आज शहर में मेरा पड़ोसी अपना मकान खाली कर दिया,
आज ही मालूम पड़ा वो भी किसी गांव से आया था।




gaanv mein harek kee jubaan par pushton ka lekha jokha rahata tha.
aaj shahar mein mera padosee apana makaan khaalee kar diya,
 aaj hee maaloom pada vo bhee kisee gaanv se aaya tha.


Garibi shayari in hindi-सीने में जलन है आखों



सीने में जलन है आखों में तूफ़ाँ क्यू है..
इस शहर में हर शख्स परेशान क्यू है
जरूरतें कभी पूरी नहीं होती किसी की
जानकर कर भी इतना अनजान क्यू हैं।




seene mein jalan hai aakhon mein toofaan kyoo hai.. 
is shahar mein har shakhs pareshaan kyoo hai 
jarooraten kabhee pooree nahin hotee kisee kee 
jaanakar kar bhee itana anajaan kyoo hain. 



Garibi shayari in hindi-ये तेरे शहर को क्या हो 



ये तेरे शहर को क्या हो गया,
ना किसी को दिखता है ना कोई सुनता है,
कोई रोता है तो कोई उसे देखकर हँसता है
हाँ जनाब! पत्थर दिल है बस पैसों से ही पिघलता है।




garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com
Image source-pickpik.com



ye tere shahar ko kya ho gaya,
na kisee ko dikhata hai na koee sunata hai,
koee rota hai to koee use dekhakar hansata hai
haan janaab! patthar dil hai bas paison se hee pighalata hai.


Garibi shayari in hindi-आज छंद रुपये में मै अपना 



आज छंद रुपये में मै अपना ईमान बेच आया।
किसी के सपनों का, आज एक सौदा कर आया
वो बैठा था सदियों से इन्साफ के इंतजार में..
देख पलभर में वो चंद रुपयों में किसी और को बेच आया।





garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com




aaj chhand rupaye mein mai apana eemaan bech aaya.
kisee ke sapanon ka, aaj ek sauda kar aaya
vo baitha tha sadiyon se insaaph ke intajaar mein..
dekh palabhar mein vo chand rupayon mein kisee aur ko bech aaya.


हार गए एक ठोकर से ज़रा पूछ उस ग़रीब से..
देख उसके सपनों में क्या रहता है नसीब से
तू किस्मत कोसते और वो दो वक़्त की रोटी को
देख उसकी बेबसी को, निकलकर अपने महल से।




 haar gae ek thokar se zara poochh us gareeb se.. 
dekh usake sapanon mein kya rahata hai naseeb se 
too kismat kosate aur vo do vaqt kee rotee ko 
dekh usakee bebasee ko, nikalakar apane mahal se. 




चूल्हा जलेगा तो रोटी भी मिलेगी..
आज कुछ पड़ा होगा तो वो भी पकेगा
थोड़ी देर अपनी भूख को शांत करो पानी से ..
थका हारा आदमी कुछ तो लेकर लौटेगा।




choolha jalega  to rotee bhee milegee..
aaj kuchh pada hoga to vo bhee pakega
thodee der apanee bhookh ko shaant karo paanee se ..
thaka haara aadamee kuchh to lekar lautega.


Garibi shayari in hindi-कोई पड़ा है रस्ते में, मुझे देर



कोई पड़ा है रस्ते में, मुझे देर हो रही है..
कोई रो रहा है पर मुजे देर हो रही है
मुझे क्या करना है। नहीं है, मेरा उनसे रिश्ता
और भी तो हज़ारों लोग है, मुझे देर हो रही है।




koee pada hai raste mein, mujhe der ho rahee hai..
koee ro raha hai par muje der ho rahee hai
mujhe kya karana hai. nahin hai, mera unase rishta
aur bhee to hazaaron log hai, mujhe der ho rahee hai.



Amiri garibi shayari-बारिश में कोई भीग रहा था, 


बारिश में कोई भीग रहा था, कोई शौक से तो कोई मज़बूरी में ।
कोई महलों में सो रहा था पर आखों में नींद ना थी,
कोई फुटपाथ पर सो रहा अपनी ही मौज मे।




baarish mein koee bheeg raha tha, koee shauk se to koee mazabooree mein .
koee mahalon mein so raha tha par aakhon mein neend na thee, 
koee phutapaath par so raha  apanee hee mauj me.




गुजरे ज़माने के साथ वों भी गुजर गए...
गुमान था दौलत का और कोड़ियों में बिक गए,
छिन के हक़ मुफ़लिसी का गुमान में छड़ गए
वों कहने वाले सिकंदर.. दो गज ज़मीन में दफन हो गए।




gujare zamaane ke saath von bhee gujar gae...
gumaan tha daulat ka aur kodiyon mein bik gae,
chhin ke haq mufalisee ka gumaan mein chhad gae 
von kahane vaale sikandar.. do gaj zameen mein daphan ho gae.


Amiri garibi shayari-करता कोई है भरता 


करता कोई है भरता कोई है..
वों गरीब है इसका कोई नहीं है
किसे दिखाई देती है उसकी दरिद्रता..
यहां तो बस अमीरी की कहानी है।




karata koee hai bharata koee hai.. 
von gareeb hai isaka koee nahin hai 
kise dikhaee detee hai usakee daridrata.. 
yahaan to bas ameeree kee kahaanee hai. 



Amiri garibi shayari-महलों को बना झोपड़े में


महलों को बना झोपड़े में सोता है..
गरीब है साहब, पानी से पेट भर सो जाता है।
दो वक्त की रोटी मिल जाए मेहनत की..
ज़ालिम ज़माना उसको भी हाथ से छीन लेता है।



mahalon ko bana jhopade mein sota hai.. 
gareeb hai saahab, paanee se pet bhar  so jaata hai. 
do vakt kee rotee mil jae mehanat kee.. 
zaalim zamaana usako bhee haath se chheen leta hai.




Gareeb quotes in hindi-पेट भर गया तो थोड़ी इज़्ज़त से


पेट भर गया तो थोड़ी इज़्ज़त से रोटी फेंकना साहब.
भुखमरी से भी मरने वाले मेरे देश में है बेहिसाब। 


garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com




pet bhar gaya to thodee izzat se rotee phenkana saahab.
bhukhamaree se bhee marane vaale mere desh mein hai behisaab. 



Gareeb quotes in hindi-वों नदिया अभी सुखी है जो 


वों नदिया अभी सुखी है जो मेरे गांव का भाग्य लिखती हैं।
वों बरसात अभी बाकी है जो गरीब के चहरे पर दिखती है।



von nadiya abhi sukhi hai jo mere gaanv ka bhaagy likhati hain.
von barasaat abhi baaki hai jo garib ke chahare par dikhati hai.


Gareeb quotes in hindi-खुशियां दौलत की 


खुशियां दौलत की मोहताज नहीं होती..
ज़रूरतें अगर इंसान का ईमान नहीं खोती। 

garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com
photo source-pxfule.com




khushiyaan daulat kee mohataaj nahin hotee.. 
zarooraten agar insaan ka eemaan nahin khotee. 


Gareeb quotes in hindi-उस ग़रीब को दो वक़्त 


उस ग़रीब को दो वक़्त की रोटी नसीब नहीं,
क्या इल्जाम लगाएगा
पैसो वाला रहेगा तो बिना लड़े ही जीत जाएगा।



us gareeb ko do vaqt kee rotee naseeb nahin, 
kya iljaam lagaega 
paiso vaala rahega to bina lade hee jeet jaega. 



Gareeb quotes-अमीर होता तो सर पर बैठ जाता.. 


अमीर होता तो सर पर बैठ जाता..
ग़रीब है साहब इसलिए दरवाज़े पर खड़ा है। 


garibi shayari in hindi, shayari-love-me.com




ameer hota to sar par baith jaata.. 
gareeb hai saahab isalie daravaaze par khada hai. 



Gareeb quotes in hindi-भले ही भूखे हैं पर ईमान

भले ही भूखे हैं पर ईमान नहीं बेचा है..
मेरी ग़रीबी का मज़ाक उड़ाने वाले.
मेरा गरीब दिल, तेरी अमीरी से बड़ा है




bhale hee bhookhe hain par eemaan nahin becha hai.. 
meree gareebee ka mazaak udaane vaale. 
mera gareeb  dil, teree ameeree se bada hai 


Read more..kisan par shayari


Post a Comment

Previous Post Next Post
<-- -->